तुम भी आना पापा/सुनील वर्मा

गुड़िया की शादी है…

तुम भी आना पापा…

जानते हो तुम…

की दुल्हा डॉक्टर है उसका…

बहुत खूबसूरत है…

किन्तु गुड़िया…

वह तो टूटी है पापा…!

श्रृंगार का सामान भी नहीं…

है उसके पास…!

कल ही तो कहा था तुमने….

की शादी रचानी है…

श्रृंगार का सामान लाना है…

कहा तो था…

शायद फिर से भूल गए तुम…!

किन्तु कोई बात नहीं पापा…

यूँ ही खूबसूरत है गुड़िया मेरी…

भूल नहीं जाना पापा…

गुड़िया की शादी है…

तुम भी आना पापा…!


Share |

The Discussion

Leave a Reply

Top