You are currently browsing the मर्मस्पर्शी संवेदनाएं category

श्रद्धांजलि../सुनील वर्मा

 तुमने  पिता खोया है…

और तुमने पति…

मैंने खोया है क्या…

पता है तुम्हे…?

खोया है मैंने…

पिता भी…पति भी…

एक रक्षक…पथ प्रदर्शक…

एक दोस्त भी…मैंने खोया है…!

जानता हूँ मैं….कि…

विलाप तुमने किया था…

किन्तु हूक जो उठ रही है…

वो मेरे दिल की आवाज है…सुनो तुम…

तुम ही रोई थी…आंसू भी बहाए थे तुम्ही ने…

किन्तु जख्म मेरी आँखों के…

आज भी हरे हैं…!

आह भी नहीं भर सकता हूँ…

रो भी नहीं सकता…

हाँ पुत्र बन कभी…कि कभी पुत्री…

या कि बनकर जीवन संगिनी उसकी…

कभी शिष्य…

तो कभी दोस्त बनकर…

भावनाओं की श्रद्धांजलि जरुर दे सकता हूँ उसे…

यही मेरे प्यार के श्रद्धा सुमन हैं…!!

Shraddhanjali-Hindi-Poems-TRIBUTE

Shraddhanjali-Hindi-Poems

Tributes by

डॉ.  सुनील कुमार वर्मा, वैज्ञानिक

Also Read
निर्भया: वो देश की बेटी

Damini_Nirbhaya_Desh_Ki_Beti

 Tribute poems for Nirbhaya, Damini, Desh Ki Beti…..READ HERE
Share |
Page 14 of 14« First...1011121314

Top